Kya Khusiya Hoti Thi Bachpan ki | Father’s Special Shayari | 2020

 

क्या खुशिया होती थी वो बचपन की ,
पापा के हाथ से दिया हर तोफाह कितना अनमोल था ,
वो डाटना , डर के छुप जाना , सब याद आने लगा है,
प्यार से गोदी में सुलाना , और वो बातें पापा के मन की
क्या खुशिया होती थी वो बचपन की |

 

Please follow and like us:
Updated: January 30, 2020 — 5:40 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *