गुजर रहे है रमजान | Roza shayari 2021

गुजर रहे है रमजान थोड़ी रेहमत मांग लो, क़ुबूल हो हर किसी की दुआ और

झोली में अपनी थोड़ी बरकत मांग लो |

Guzar Rahe Ramzan Thodi Rehmat Maang lo, kubool Ho har Kisi ki Dua

Aur Jholi me Apni thodi Barkat Maang lo

बड़ा गुरूर है मुझे उस चाँद पर ,
जो खिला देता है चेहरे अक्सर और मजहब नहीं पूछता

ईद मुबारक

Jo khila deta hai chehre aksar aur Majhab nahi puchhta.

Bada Guroor hai mujhe us chand par,

गुजर रहे है रमजान | Roza shayari 2021 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *